बरसात

rain-image-ajaybhadoo blog
Courtesy: Subhanzein

बरसात

किसी रूत या मौसम का नाम नही है,

तेरी आरज़ू की तड़प है बरसात

बेचैनी है तुझे पाने की,

तेरी रिमझिम बरसती याद है

ये भीगा मौसम तेरे लम्स की गरमी की तरह

ये काली घटा कि तूने बाल खोल दियें हों जैसे

जो मैं कह न सका, जो तुम बता न सकी

उन सब अनकही बातों का एहसास है,

तेरे बिना जो गुज़रे उन तन्हा पलों का ख़ालीपन है

बरसात, तेरे तसव्वुर का दूसरा नाम है ।

IAS Officer, Secretary to Government of Gujarat. Municipal Commissioner, Vadodara.

Site Footer

Sliding Sidebar